Home Hindi Blogs शर्मिला स्वभाव: कैसे दूर करें

शर्मिला स्वभाव: कैसे दूर करें

1322
0
शर्मिला स्वभाव: कैसे दूर करें

शर्मिला स्वभाव व्यक्ति का सबसे प्रमुख आभूषण है , जो समाज मे व्यक्ति को सभ्य तरीके से पेश करता है । परन्तु व्यक्ति में पाई जाने वाला यह शर्मिला स्वभाव उसे जिंदगी के दौर में कहीं पीछे धकेल दिया करता है । क्या आप भी शर्मिला स्वभाव रखते हैं? तो आगे ज़रूर पढ़िए गा, यहाँ कुछ सुझाव है जिसे आप अपनाएंगे तो शर्मिला स्वभाव से मुक्त हो सकते हैं ।

व्यक्ति कब शर्मिला होता है

शर्मिला व्यक्ति समाज से दूर रहता है, वह समाज से बिल्कुल कट से जाता है । शर्मिला होने के कई कारण हो सकते हैं परन्तु अत्यधिक यह देखा गया है कि शर्मिला व्यक्ति के भीतर पुराने अनुभव के कारण शर्म उतपन्न होती है । शर्मिला स्वभाव रखने वाले व्यक्तियों की तादाद विश्व भर में बेहद बढ़ गई है, हर 10 में से 4 लोग खुद को शर्मिला घोषित कर रहें हैं, जिसके कारण वह भीड़ में अपना पक्ष रखने से कतराते हैं, उनके भीतर यह डर लगा रहता है कि लोग क्या सोचेंगे, क्या कहेंगे।

कैसे जानें आप शर्मीले हैं

मनुष्य को स्वंय ही यह पता होता है कि वह शर्मिला है या नहीं, कई व्यक्ति शर्मिला होने को गुण में गिनते हैं परन्तु यही गुण आपको समाज से अलग कर देता है , अपनी बात या अपना पक्ष न रख पाना यह बहुत बड़ी कमज़ोरी है जिसका मुख्य कारण आपका शर्मिला स्वभाव ही है । अगर आप किसी से बात करने में हिचकिचाहट रखते हैं तो इसका मतलब है कि आप शर्मीले हैं ।

तरीके शर्मिले स्वभाव से मुक्त होने के लिए

शर्मीलापन इंसान का एक गुण है लेकिन यह उन्हें समाज के बाकी लोगों से भी अलग करता है। तो, यदि आप जानना चाहते हैं कि आप शर्म को कैसे दूर कर सकते हैं ताकि यह आपके विकास में बाधक न बने, तो आप कलदन द्वारा लिखा गया एक उपयोगी ब्लॉग पढ़ सकते हैं ।

किसी भी परिस्थिति से बाहर आने के लिए आपको यह जानना जरूरी है कि आप शर्मीले क्यों हैं । इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे कि बचपन से आपके घर का वातावरण जो आपको अपनी पक्ष रखने को रोकते है । शर्म को हम कुछ संदर्भ में डर भी कह सकते हैं क्योंकि शर्म और डर में व्यक्ति अपना पक्ष रखने में घबराहट रखता है उसे लगता है कि बाकी लोग क्या सोचेंगे । शर्म आना यह कोई अच्छी बात नहीं जिसके लिए व्यक्ति को सम्मानित किया जाए , इसे अपने परिवार के अलावा किसी से इज़हार न करें । कभी-कभी हम वास्तव में हमारे अपने सबसे बड़े दुश्मन होते हैं। अपने भीतर के आलोचक को आपको नीचे लाने की अनुमति न दें। इसके बजाय, उस आवाज़ की शक्ति का विश्लेषण करें ताकि आप इसे परिभाषित कर सकें।

अच्छे दोस्त का होना जिंदगी में काफी महत्वपूर्ण रहता है । दोस्त ही वह व्यक्ति है जिस हम स्वयं चुनते हैं । शर्मीले लोग कम लेकिन गहरी दोस्ती करते हैं – जिसका अर्थ है कि आपके दोस्त या साथी की पसंद और भी महत्वपूर्ण है। अपने जीवन में उन लोगों को अपना समय दें जो उत्तरदायी,  और उत्साहजनक हैं।

हमेशा कुछ लोग ऐसे होते हैं जो एक अच्छा पंच लाइन बनाने के लिए क्रूर या व्यंग्यात्मक होने को तैयार रहते हैं, कुछ ऐसे भी होते हैं जिन्हें बस इस बात का कोई मतलब नहीं होता कि क्या उचित है, और कुछ जिन्हें उनकी परवाह नहीं है। इन लोगों से स्वस्थ दूरी बनाए रखें।

शर्मिले पर अध्ययन

एक हालिया अध्ययन से पता चलता है कि शर्म किसी व्यक्ति की भलाई और उनके रोमांटिक संबंधों की गुणवत्ता को कैसे प्रभावित कर सकती है। कुछ बेहद शर्मीले व्यक्ति अलगाव के कारण अवसाद और अन्य भावनात्मक और मानसिक मुद्दों को विकसित करते हैं। क्योंकि मानव संपर्क एक खुशहाल और पूर्ण जीवन जीने का ऐसा महत्वपूर्ण हिस्सा है, अगर इस गति-विधि की उपेक्षा की जाती है, तो लोगों के जीवन की गुणवत्ता कम होने की संभावना है।

अत्यधिक शर्मीलापन अंतर्मुखता और बचपन की शर्म से अलग है।

अंतर्मुखता एक प्रकार का व्यक्तित्व गुण है। अंतर्मुखी लोग उत्तेजनाओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं और बाहरी उत्तेजनाओं के बजाय अपने भीतर महसूस करते हैं। हालाँकि कई इंट्रॉवर्ट ऐसे भी हैं जो शर्मीले भी होते हैं, लेकिन यह इस बात का खुद-ब-खुद पालन नहीं करता है कि इंट्रोवर्ट्स अत्यधिक शर्म या सामाजिक चिंता का अनुभव करते हैं।

बचपन की शर्म, इस बीच, एक ऐसा चरण है जिसमें कुछ बच्चे ऐसे होते हैं, जहां वे अजनबियों के आसपास शर्माते हैं। बच्चे आमतौर पर इस चरण को आगे बढ़ाते हैं, और बच्चों का इससे गुजरना सामान्य है।

यदि आप सीखना चाहते हैं कि शर्म को कैसे दूर किया जाए, तो यह सब आपके कार्य के बारे में है। माइंडसेट महत्वपूर्ण है, लेकिन हमें हमेशा इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि शर्म को दूर करने के लिए हमें किन कार्यों को करना चाहिए। आप इससे संबंधित अन्य सहायता के लिए Kaldan Doma जी से ईमेल द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं, info@kaldandoma.com पर ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here